44 C
New Delhi
Saturday, May 18, 2024

पशुपतिनाथ मंदिर नेपाल | Pashupatinath Temple Nepal

पशुपतिनाथ मंदिर नेपाल के प्रमुख एवं प्रसिद्ध राज्य काठमांडू में स्थित एक हिन्दू मंदिर है। काठमांडू नेपाल की राजधानी है और पशुपतिनाथ मंदिर काठमांडू से लगभग 3 किलोमीटर की दूरी पर स्थित देवपाटन गांव में स्थित है। पशुपतिनाथ मंदिर के पास एक नदी है जिसका नाम बागमती नदी है। पशुपतिनाथ मंदिर पूरी तरह से भगवान शिव को समर्पित है। नेपाल के धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र बनने से पहले, भगवान शिव को नेपाल का राष्ट्रीय देवता माना जाता था।

वैश्विक धरोहर
पशुपतिनाथ मंदिर Pashupatinath Temple Nepal न केवल नेपाल की धरोहर है, बल्कि यह मंदिर यूनेस्को विश्व सांस्कृतिक विरासत स्थल में भी सूचीबद्ध है। ऐसा माना जाता है कि पशुपतिनाथ मंदिर हिंदू धर्म के सबसे पुराने मंदिरों में से एक है। इसलिए पशुपतिनाथ मंदिर को नेपाल का सबसे पवित्र मंदिर माना जाता है।

गैर हिंदू प्रवेश
पशुपतिनाथ मंदिर में केवल हिंदू धर्म के अनुयायियों को ही प्रवेश की अनुमति है। गैर-हिंदू आगंतुकों को मंदिर में प्रवेश की अनुमति नहीं है; वे मंदिर को केवल बाहर से, बागमती नदी के दूसरी ओर से ही देख सकते हैं। यह मंदिर नेपाल में शिव का सबसे पवित्र मंदिर माना जाता है। 15वीं शताब्दी के राजा प्रताप मल्ल द्वारा शुरू की गई परंपरा के अनुसार, मंदिर में चार पुजारी (भट्ट) और एक मुख्य पुजारी (मूला-भट्ट) भगवान पशुपतिनाथ की सेवा करते हैं। ये पुजारी दक्षिण भारत के ब्राह्मण होते हैं। भारत से केवल सिखों और जैनियों को ही मंदिर में प्रवेश की अनुमति है।

पशुपतिनाथ मंदिर की वास्तुकला

पशुपतिनाथ मंदिर Pashupatinath Temple Nepal का निर्माण नेपाल की पैगोडा शैली में किया गया है। मंदिर में दो स्तरीय छतें हैं, जिनमें से मुख्य तांबे से बनी है और सोने से ढकी हुई है। मंदिर एक वर्गाकार आधार मंच पर स्थित है, जिसकी ऊंचाई आधार से शिखर तक 23 मीटर 7 सेमी है। इसमें चार मुख्य दरवाजे हैं, सभी चांदी की चादरों से ढके हुए हैं। इस मंदिर का शिखर स्वर्णिम है। अंदर दो गर्भगृह हैं: आंतरिक गर्भगृह या पवित्र स्थान वह है जहां शिवलिंग स्थापित है, और बाहरी गर्भगृह एक खुला गलियारा जैसा स्थान है।

पशुपतिनाथ मंदिर निर्माण

नेपाल की किवदंतियों के अनुसार पशुपतिनाथ मंदिर का निर्माण तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व में सोमदेव राजवंश के पशुप्रेक्ष ने करवाया था, लेकिन उपलब्ध ऐतिहासिक दस्तावेजों के अनुसार इस मंदिर का निर्माण 13वीं शताब्दी में हुआ था। मूल मंदिर को कई बार नष्ट किया गया। इसे वर्तमान स्वरूप 1697 में राजा भूपतेंद्र मल्ल ने दिया था।

भगवान शिव का अभिषेक करें
पशुपतिनाथ मंदिर के आंतरिक गर्भगृह में जहां लिंगम स्थापित है, चार प्रवेश द्वार हैं – पूर्व, पश्चिम, उत्तर, दक्षिण। सुबह 9:30 बजे से दोपहर 1:30 बजे तक. भक्त चारों द्वारों से पूजा कर सकते हैं।

Related Articles

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Stay Connected

6,890FansLike
0FollowersFollow
0SubscribersSubscribe
- Advertisement -spot_img

Latest Articles